फुटबॉल मैच पर निबंध | football par nibandh

football par nibandh

भूमिका

स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है। परिणामस्वरूप छात्र जीवन में एथलेटिक्स को अनिवार्य कर दिया गया है। नतीजतन छात्रों के जीवन में खेलों का एक अनूठा मूल्य है। वैसे तो सभी खेल अपनी जगह उपयोगी एवं फायदेमंद होते हैं लेकिन फुटबॉल मेरा सबसे पसंदीदा खेल है। यह एक ऐसा सामूहिक खेल है जिसे दो टीमों के बीच खेला जाता है जिसमें 11 – 11 खिलाड़ी होते हैं। फुटबॉल विश्व के सबसे अधिक लोकप्रिय खेलों में से एक है।

football par nibandh

खेल मैदान की संरचना

फुटबॉल एक ऊर्जावान और शरीर को मजबूत करने वाला खेल है। फुटबॉल को खेलने के लिए पर्याप्त जगह की आवश्यकता होती है। यह खेल दौड़ने का पूरा फायदा देता है। यह खेल ऐसे मैदान पर खेला जाना चाहिए जो कम से कम 100 गज लंबा और 50 गज चौड़ा हो। अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल मैचों में मैदान की लंबाई आमतौर पर 120 गज और चौड़ाई 90 गज होती है। इस मैदान पर कई रेखाएँ खींची जाती हैं। उदाहरण के लिए, गोल परिधि और स्पर्श रेखा, साथ ही साथ फाउल पैनल्टी और कार्नर के क्षेत्र भी रेखाओं द्वारा निर्धारित किए जाते हैं।

उनके बीच 8-यार्ड अंतराल वाले पोल खेल स्थल के दोनों किनारों पर लगाए जाते हैं। फुटबॉल खेल के व्यवस्थित संचालन में सहायता के लिए मैदान के चारों ओर रंगीन झंडे भी लगाए गए हैं। एक रेखा खेल के मैदान को आधे में विभाजित करती है। इसे केंद्रीय बिंदु कहा जाता है। यहीं से खेल शुरू होता है।

मेरा अनुभव

मुझे एक फुटबॉल मैच में भी भाग लेने का अवसर मिला है। इस मैच में संत जॉन स्कूल और सेंट पॉल स्कूल ने भाग लिया। सिक्का उछालने के बाद प्रतिभागियों ने अपनी-अपनी पोजीशन ली। दर्शकों का उत्साह सातवें आसमान पर पहुंच गया। खेल तब शुरू हुआ जब रेफरी ने अपनी दूसरी सीटी बजाई। दोनों पक्षों के खिलाड़ी आपस में भिड़ने लगे। संत जॉन स्कूल का गोलकीपर बेहद सावधानी से गोल बचा रहा था। पहले 20 मिनट तक किसी भी टीम को गोल करने का मौका नहीं मिला। मेरा गोलकीपर भी पूरी सतर्कता से डटा था। उसने एक पेनल्टी को भी बचा लिया था। इसके चलते खिलाड़ियों में खुशी का माहौल था। नतीजतन खेल के मध्य तक कोई गोल नहीं किया जा सका।

football par nibandh

मध्यावकाश के बाद ही खेल फिर से शुरू हुआ। गोल इस बार संत जॉन स्कूल की टीम ने किया। मेरे स्कूल के खिलाड़ियों ने एक बार फिर गोल करने की कोशिश की। कप्तान ने खेल खत्म होने से 10 मिनट पहले मेरे पास पर एक खूबसूरत किक से गोल किया। नतीजतन, हम अब बराबर गोल कर चुके थे। खेल के अंतिम मिनट में गेंद पर मेरा नियंत्रण था। मैंने देखा कि विरोधी टीम का गोलकीपर थोड़ा आगे बढ़ गया था।

यह भी पढ़ें :- क्रिकेट पर निबंध

मैंने गेंद को गोलकीपर के सिर के ऊपर से किक मारी। मेरी कोशिश अच्छी चली। गेंद गोलपोस्ट से उछलकर नेट में जा लगी। खेल के समापन का संकेत देते हुए अंतिम सीटी बजाई गई। दर्शक अखाड़े में दौड़ पड़े और मुझे कंधे से उठा लिया। इसके बाद विजेता टीम की ट्राफी हमें दी गई। नतीजतन, मैं इस मैच को कभी नहीं भूलूंगा। इस खेल की खुशी अब भी मेरे पास है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *