मुक्केबाजी पर निबंध | Essay on Boxing in hindi

mukkebaji per nibandh

भूमिका

मुक्केबाजी एक ताकत और चपलता का खेल है। खिलाड़ियों के विभिन्न वर्गीकरण उनके वजन के आधार पर बनाए जाते हैं। यह बेहद खतरनाक खेल है। इससे खिलाड़ी की मौत भी हो जाती है। बॉक्सिंग या मुक्केबाजी एक ऐसा खेल है जिसमें दो मुक्केबाज हाथों में दस्ताने पहनकर मैदान में लड़ते हैं। यह एक ऐसा खेल है जो पूरी दुनिया में खेला जाता है। यह गेम दुनिया भर में लोकप्रिय है। इस खेल में हेडपीस को ग्लव्स के साथ भी पहना जाता है।

mukkebaji per nibandh

खेल का इतिहास

यह खेल प्राचीन रोम में लोहे के दस्तानों से खेला जाता था। फिर यदि बॉक्सिंग के दौरान प्रतिद्वंद्वी के कनपटी पर चोट लग जाए, तो उसकी मृत्यु हो सकती थी, लेकिन चौथी शताब्दी तक, यह क्रूर खेल समाप्त हो चुका था। सुरक्षा के लिहाज से नए प्रतिबंध भी लगाए गए।

खेल का नियम

बॉक्सिंग गेम रिंग कम से कम 3.66 मीटर वर्ग और 6.10 मीटर वर्ग से अधिक नहीं होनी चाहिए। इसके चारों ओर रस्सी बांधकर खिलाड़ी की सुरक्षा सुनिश्चित की जाती है। मुक्केबाजी एक अपेक्षाकृत सीधा खेल है। एक मुक्केबाज जितना अधिक वार अपनी कमर के ऊपर या तो सीधे मुंह में या बगल में फेंकता है, उतने ही अधिक अंक वह अर्जित करता है। रेफरी के आदेश का पालन सभी मुक्केबाज करते हैं। रेफरी का मानना ​​है कि लड़ाकू प्रतिस्पर्धा करने के लिए अयोग्य है, तो उसके पास मैच को रद्द करने या रोकने का अधिकार है। जब प्रतियोगिता समाप्त हो जाती है, तो रेफरी विजेता का हाथ उठाता है। mukkebaji per nibandh

खेल के प्रत्येक दौर के विजेता को अंकों की एक निश्चित संख्या प्रदान की जाती है। विजेता को शौकिया मुक्केबाजी दौर में 20 अंक मिलते हैं, जबकि उसके प्रतिद्वंद्वी को केवल कुछ अंक मिलते हैं। जब दोनों मुक्केबाज समान खिलाड़ी होते हैं, तो उनमें से प्रत्येक को 20 अंक प्राप्त होते हैं। पेशेवर मुक्केबाजी नियमों के समान सेट का पालन करती है। यदि दोनों खिलाड़ियों के अंक समान हों तो मैच बराबरी पर समाप्त होता है।

एक मुक्केबाज को तेजी से प्रतिक्रिया करनी चाहिए, अपने प्रतिद्वंद्वी पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। एक मुक्केबाज के मुख्य प्रहारों को पंच, जैब, हल्का लेकिन तेज पंच, हुक और ऊपरी कट माना जाता है।

यह भी पढ़ें :- निशानेबाजी पर निबंध

निष्कर्ष

आज की बॉक्सिंग में भारत विश्व में अग्रणी है। मुक्केबाजी में 2008 ई० के ओलंपिक में भारत ने कांस्य पदक अर्जित किया। भारत के खिलाड़ी अगर धैर्य और जोश के साथ खेलना जारी रखते हैं तो निस्संदेह भविष्य के ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक जीतेंगे। कई अंतरराष्ट्रीय स्तर के मुक्केबाज वर्तमान में भारत में प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं और विभिन्न प्रतियोगिताओं में जीत हासिल कर रहे हैं।

2014 ई० के एशियाई खेलों में मैरी कॉम ने स्वर्ण पदक जीता था। मुक्केबाजी को कभी एक घातक खेल माना जाता था, लेकिन अब यह एक सुरक्षित और अधिक लोकप्रिय खेल के रूप में विकसित हो गया है। यह खेल लोगों की दिलचस्पी जगाने लगा है। हालाँकि, यह केवल उग्र और उत्साही खिलाड़ियों द्वारा खेला जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *