रसखान पर निबंध | raskhan par nibandh in hindi

raskhan par nibandh

जीवन परिचय

रसखान सगुण काव्य-कृष्ण-भक्ति धारा की शाखा के कवि थे। उसका असली नाम सैयद इब्राहिम था। उन्हें दिल्ली के पठान सरदार के नाम से जाना जाता है। कुछ शिक्षाविदों का मानना ​​है कि वे पिहानी के निवासी हैं। हालांकि, इस संबंध में कोई महत्वपूर्ण सबूत नहीं है। हालांकि रसखान किसी शासक का वंशज था। ‘प्रेमवाटिका’ के निम्नलिखित शब्दों से यह स्पष्ट हो जाता है :—

“देखि गदर हित साहिबी , दिल्ली नगर मसान।

छिनहिं बादसा- वंश की , उसक छोरि रसखान॥”

उनके जन्म को लेकर विवाद है। कुछ शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि उनका जन्म सन् 1533 ई० में हुआ था। दूसरी ओर मिश्राबंधु ने 1548 ई० को ध्यान में रखा है। उनका जन्म दिल्ली शहर में हुआ था। यह गुसाईं विट्ठलनाथ का अनुयायी बन गया था। क्योंकि उनका प्रत्येक सवैये रस का खान है, उनका उपनाम रसखान ‘यथा नामः तथा गुणः’ से लिया गया था। उनकी मृत्यु वर्ष 1618 ई० में हुई थी।

raskhan par nibandh

साहित्यिक परिचय

रसखान शुरू से ही एक शानदार प्रेमी थे। भगवान कृष्ण के लिए उनका लौकिक प्रेम अलौकिक प्रेम में बदल गया था। वह अपने लीलाओं के देश ब्रज की प्राकृतिक सुंदरता से उतना ही मुग्ध था, जितना वह कृष्ण के रूप की सुंदरता से था। कृष्ण के प्रति उनके प्रेम में अपार तीव्रता, गहराई और गहन तनाव है। फलस्वरूप उनकी रचनाओं में हृदयस्पर्शी गुण विद्यमान हैं। उनकी लगन और सादगी के कारण उनकी रचनाएँ अत्यधिक लोकप्रिय हुई हैं। raskhan par nibandh

रसखान द्वारा लिखी गई चार रचनाएँ प्रसिद्ध हैं:- ‘सुजान रसखान,’ ‘प्रेमवाटिका,’ ‘बाल लीला,’ और ‘अष्टयाम’। ‘सुजान रसखान’ भक्ति और प्रेम के बारे में एक स्वतंत्र कविता है। प्रेमवाटिका के दोहे छंदों में ‘सुजान रसखान’ भक्ति और प्रेम के बारे में एक मुक्त कविता है जिसमें कविता और छंदों में लिखे गए 139 भावपूर्ण छंद हैं। ‘प्रेमवाटिका’ कविता में प्रेम के सार का 25 दोहे का गेय चित्रण है। उन्होंने अन्य कृष्ण अनुयायी कवियों की तरह विशिष्ट उत्तर-शैली में नहीं लिखा। रीतिकाल ने अपनी मुक्तक पद्य-शैली की विरासत का अनुसरण किया।

भाषा

रसखान ने ब्रजभाषा में कविताएँ लिखीं। इनकी भाषा मनोरम है। प्राकृतिक प्रवाह के कारण उनका काव्य आकर्षक है। उन्होंने कुछ स्थानों पर वाक्य और अनुप्रास अलंकार जैसे अलंकारों का प्रयोग किया है, जिससे भावों के सौन्दर्य के साथ-साथ भाषा के सौन्दर्य में भी वृद्धि हुई है। भाषा में बहुत अधिक प्रसाद गुण हैं, और हर जगह सरल, मधुर, सारगर्भित, बहने वाली और भावपूर्ण भाषा की झलक दिखाई देती है।

शैली

रसखान का शैली सीधा और प्रभावी है। रसखान ने अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए कवित्त, सवैया और दोहा छंदों का उपयोग किया, जबकि गीत प्रणाली फैशन में थी। चूंकि गीत छंदों के बंधन से मुक्त है, रसखान ने अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए सवैया और दोहे छंदों का इस्तेमाल किया। रसखान ने मत्तगयन्द सवैये और मनहरन कवित्त लिखीं। उन्होंने सवैये और कवित्त शैलियों को पुनर्जीवित किया।

यह भी पढ़ें:- कवि बिहारी पर निबंध

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *