शतरंज पर निबंध |essay on chess in hindi….

Shatranj par nibandh

भूमिका

कई खेल इनडोर श्रेणी में आते हैं और भवन के कमरों में खेले जाते हैं। शतरंज भी एक इनडोर खेल है। शतरंज दिमाग को तेज करता है क्योंकि यह दिमाग का खेल है। प्राचीन काल में समय बिताने के लिए राजा, महाराजा, नवाब और जमींदार अपने खाली समय में शतरंज खेलते थे। शतरंज भारत में प्राचीन काल से खेला जाता रहा है, लेकिन इसे केवल 15वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में दक्षिणी यूरोप में पेश किया गया था।

Shatranj par nibandh

खेल का नियम

शतरंज आज विश्व का सबसे लोकप्रिय खेल है। इसे लाखों लोग अपने घरों , चौपालों , क्लबों और कंम्प्यूटर पर खेलते हैं। यह खेल 64 खानों की चौकोर शतरंज की बिसात पर खेला जाता है। इस बिसात में लंबाई – चौड़ाई में 8 – 8 खोने यानी कुल 64 खाने होते हैं और दोनों ओर 32 – 32 खाने होते हैं। इन्हीं खानों में शतरंज की गोटियां रखी जाती हैं। प्रत्येक खिलाड़ी के पास 16 गोटियां होती हैं- एक राजा , एक वजीर , दो ऊंट , दो घोड़े , दो हाथी और आठ प्यादे। राजा एक घर या खाना चलता है। वह कहीं भी चलने की क्षमता रखता है।

Shatranj par nibandh

वज़ीर हर तरफ से मारने में भी सक्षम है। शतरंज में वज़ीर सबसे शक्तिशाली खिलाड़ी होता है। ऊंट हमेशा तिरछी दिशा में चलता है। ढाई घर घोड़े से चलते हैं, दो सीधे और एक तिरछा। हाथी चारों दिशाओं में एक सीधी रेखा में चलता है। प्यादा भी एक घर चलता है। सफेद प्यादा काले को और काला प्यादा सफेद को ही मारता है। इस खेल में खिलाड़ी से बहुत अधिक एकाग्रता की आवश्यकता होती है। प्रत्येक खिलाड़ी का लक्ष्य अपने प्रतिद्वंद्वी के राजा की जाँच करना और उसे हराना है। यही खेल का लक्ष्य है।

इस खेल में दो खिलाड़ी आमने-सामने प्रतिस्पर्धा करते हैं। अब एक भी खिलाड़ी शतरंज खेल सकता है, लेकिन उसका प्रतिद्वंद्वी अब कंप्यूटर बन गया है। विश्व स्तरीय खेलों में खेल शुरू करने के लिए एक मिनट का समय दिया जाता है। खेल की अवधि 10 मिनट से एक घंटे (60 मिनट) तक हो सकती है। यह खेल काफी दक्षता से खेला जाता है। शतरंज का खेल योजना बनाकर खेला जाता है और उसी तरह खेला जाता है जैसे युद्ध जीतने के लिए रणनीति तैयार की जाती है।

यह भी पढ़ें :- तैराकी पर निबंध

निष्कर्ष

शतरंज का खेल सोलहवीं शताब्दी का है। फिर भी यह समय के साथ विकसित हुआ। शतरंज की अब अपनी अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति है। विल्हेम स्टीनिट्ज़ पहले वैश्विक शतरंज चैंपियन थे। 1886 ई० में उन्हें यह उपाधि दी गई। विश्वनाथन आनंद एक भारतीय भी एक वैश्विक शतरंज चैंपियन रहे हैं। आजकल छोटे-छोटे बच्चे भी शतरंज खेलने में सक्षम हैं। उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान भी मिल रही है। भारत ने इस खेल में अपना नाम बनाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *