तैराकी पर निबंध | hindi essay on swimming

tairaki per nibandh

भूमिका

तैराकी एक प्रकार की शारीरिक गतिविधि और मनोरंजन का एक रूप है। स्वास्थ्य के मामले में इसकी तुलना किसी अन्य खेल से नहीं की जा सकती है। इस खेल में पारंगत होने से मनुष्य के आत्मविश्वास में वृद्धि होती है। वह किसी भी डूबते प्राणी को आसानी से बिना डरे उसकी जान बचा सकता है। तैराकी प्रतियोगिताओं को चार श्रेणियों में बांटा गया है:- फ्रीस्टाइल, बैकस्ट्रोक, ब्रेस्टस्ट्रोक और बटरफ्लाई। इन चार विधियों के संयोजन का उपयोग करके तैराकी प्रतियोगिताएं भी आयोजित की जाती हैं।

tairaki per nibandh

एक परिचय

तैराकी एक ऐसा खेल है जो हजारों साल पहले का है। सुईगिऊ के शासनकाल के दौरान जापान में 36 ईसा पूर्व में एक तैराकी प्रतियोगिता आयोजित की गई थी। 1603 ई० से तैराकी का खेल औपचारिक रूप से वहाँ खेला जाता रहा है। आज भी स्कूलों में तैराकी के पाठों की आवश्यकता है। पहली बार तैराकी को ओलंपिक खेलों में 1896 ई० में एथेंस में शामिल किया गया था। तीन पुरुषों की फ्रीस्टाइल प्रतियोगिताएं आयोजित की गईं, साथ ही जहाज के नाविकों के लिए एक विशेष टूर्नामेंट भी आयोजित किया गया।

तैराकी खेल में स्थानों के आधार पर पूल की लंबाई भिन्न होती है। ओलंपिक खेलों का पुल 50 मीटर लंबा, 23 मीटर चौड़ा और 2 मीटर गहरा होता है। अन्य राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय खेलों में तालाब 25 मीटर लंबा, 18 मीटर चौड़ा और कम से कम 1.2 मीटर गहरा होता है।

tairaki per nibandh

खेल के प्रकार

तैराकी में फ़्रीस्टाइल, बेस्टस्ट्रोक और तितली दौड़ सभी एक डुबकी के साथ शुरू होती हैं। तैराक दोनों पैरों को एक साथ जोड़कर पानी में कूदता है जैसे ही रेफरी एक लंबी सीटी बजाता है और दौड़ शुरू हो जाती है। बैकस्ट्रोक और मेडले रिले दौड़ में रेफरी द्वारा एक लंबी सीटी बजाते ही खिलाड़ी पानी में उतर जाते हैं और तैरना आरंभ कर देते हैं। तैराक अपनी दौड़ पूरी करने के बाद दीवार के खिलाफ अपनी पीठ से दीवार को छूता है।

ब्रेस्टस्ट्रोक एक तैराकी शैली है जिसमें तैराक सीने के बल दोनों के सहारे तैरता है। बटरफ्लाई स्टाइल में भी सीने के बल पर तैरना जरूरी है। खिलाड़ी को अपनी पीठ पर तैरने या स्पिन करने की अनुमति नहीं है, हालांकि फ्रीस्टाइल में, तैराक किसी भी दिशा में तैर सकता है और दौड़ के अंत में केवल तैराकी मुद्रा में दीवार को हिट करना चाहिए।

tairaki per nibandh

खेल के नियम

सभी चार प्रकार के तैरने को मेडले स्विमिंग में मिला दिया जाता है – बटरफ्लाई, बैकस्ट्रोक, ब्रेस्टस्ट्रोक और फ़्रीस्टाइल। फिर भी मेडले रिले में इससे भिन्न स्टाइल का अनुसरण किया जाता है – बैकस्ट्रोक , ब्रेस्टस्ट्रोक , बटरफ्लाई और फ्रीस्टाइल तैराकी रेस में पूल में तैरने का सभी खिलाड़ियों का अलग – अलग मार्ग होता है। तैराकी में यह भी नियम है कि खिलाड़ी पूल की दीवार या किसी अन्य वस्तु को नहीं छू सकता है। इसके अलावा, अपारदर्शी कपड़े, काले चश्मे और एक टोपी की आवश्यकता होती है, और त्वरक या तैराकी सहायता का उपयोग हमेशा प्रतिबंधित होता है।

यह भी पढ़ें :- क्रिकेट पर निबंध

निष्कर्ष

भारत के खिलाड़ियों को इस समय इस खेल में अंतरराष्ट्रीय पहचान बनाने की जरूरत है। ऐसे में युवाओं को तैराकी के लिए प्रोत्साहित करने की जरूरत है। सरकार को भी इस दिशा में जरूरी कदम उठाने चाहिए और इस क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करना चाहिए। सरकार द्वारा उन्हें आर्थिक मदद भी मुहैया कराई जानी चाहिए। ताकि अधिक से अधिक संख्या में खिलाड़ी इसमें शामिल हो सके। इस खेल में अमेरिका अग्रणी है।

One thought on “तैराकी पर निबंध | hindi essay on swimming

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *